Update 24 April

खोरी अपडेट (116)

24-04-2022

जिंदाबाद दोस्तों!

टीम साथी के सहयोगियों की ओर से दायर “रेखा, पिंकी और पुष्पा बनाम भारत सरकार” वाला मुकदमा 26 तारीख सुबह 10:30 बजे सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई के लिए आ रहा है। 

यह मुकदमा वरिष्ठ अधिवक्ता संजय पारीख जी, एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड सृष्टि अग्निहोत्री जी, वकील तृप्ति पोद्दार जी व अन्य साथी सर्वोच्च न्यायालय में चलाते हैं।

हम आपको फिर यह बताना चाहेंगे कि ख़ोरी गांव से संबंधित आपके पास में जो भी कागज, सबूत, फोटो, प्रमाणपत्र आदि कुछ भी जो यह बताते है कि आप खोरी गांव में रहते थे आप उसको एक लिफाफे में संभाल कर अलग रख लीजिए।

मगर किसी को कोई पैसा या कागज देने की जरूरत बिल्कुल भी नहीं है। हम आपको आगे की खबर देंगे।

पीएलपीए यानि जगंल जमीन वाले मुकद्दमे का फैसला सुप्रीम कोर्ट बाद में देगा। अब इस पर कोई मुकदमा दायर नहीं हो सकता।

हम आपको पूरी जिम्मेदारी के साथ आगाह करना चाहेंगे कि यदि कोई भी नए मुकदमे के लिए पैसा इकट्ठा करता है, नाम और कागज इकट्ठा करता है तो वह गलत है। कोई ऐसा करता है तो उसको पूछिये कि कौन सा वकील है? कौन सी अदालत में कब मुकदमा दायर कर रहे हैं ? किसी भी तरह का कोई स्टे भी नहीं हो सकता है। लोगों को मुकदमे के नाम पर झूठी दिलासा देकर पैसा लूटना गलत है। 

भू-माफिया से भी सावधान रहिए जिन्होंने आज तक प्लॉट कटिंग के नाम पर पैसा लूटा है। वह दोबारा सक्रिय हैं।

जो नेताजी थोड़े दिन पहले प्लॉट देने का वादा कर गए थे। 21 अप्रैल को उन्हीं के बेटे का कर्मचारी एमसीएफ के लोगो के साथ खड़ा होकर बुलडोजर चलवा रहा था। तो आप किसी के धोखे में मत आइए।

मामला सीधा कानूनी है वह बात और है कि यदि सरकार चाहे तो कुछ भी कृपा कर सकती है।

आगे की जानकारी के लिए पढ़ते रहिये, सुनते रहिए ख़ोरी अपडेट।

खोरी गांव के साथ और सहयोग में

टीम साथी